विशेषज्ञ कहते है कि यदि आप अपने बच्चों को बिना फिल्टर किये (असुरक्षित) फोन देते हैं तो आप बुरे माता पिता हैं

हरीश पी द्वारा २३ अप्रैल २०१९ को पोस्ट किया गया

विश्व प्रगति कर रहा है और हमारा जीवन नवीनतम तकनीक से बहुत अधिक प्रभावित हो रहा है। हम लोग दिन की शुरुआत स्मार्ट फोन देखने से करते है। यहाँ तक सोने से पहले भी एक बार फोन देखना नहीं भूलते हैं। हम जिस प्रकार फोन पर लगे रहते हैं, हमारे बच्चे भी अलग नहीं हैं। वे भी ओन लाइन की दुनियासे होने फायदे एवं नुकसान के लिये उपलब्ध हैं। दुनिया में होने वाली हर खतरनाक चीजों तक उनकी पहुुँच हो सकती है।

मेट फ्रेड एक पाडकास्टर, पार्न कार्यकर्ता और कपोल कल्पित पोर्नोग्राफी की सच्चई को उजागर करने वाली लोकप्रिय पुस्तक पार्न मिथ के लेखक हैं ने कहा है कि यदि कोई माता पिता अपने बच्चों को बिना पेरेन्टल कन्ट्रोल का आई फोन या आईपाड देते हैं या फिल्टरिंग ओन नहीं करते हैं, वे खराब माता पिता हैं।फ्रेड के इस वक्तव्य में भले ही विवरण न हो लेकिन यह हजारों छात्रों से वर्षों तक पार्न की समस्या पर बातचीत के बाद एक गुस्सा भरा उद्गार है। एक अध्ययन के अनुसार ७० प्रतिशत से ज्यादा छात्र नियमित रूप से पोर्नोग्रफी देख रहे थे एवं उनके माता पिता इस तथ्य से अनभिज्ञ थे।

बच्चों को नुकसान दायक सामग्री से बचाना
माता पिता प्रायः बहाना बनाते हैं कि उन्हें तकनीक से निपटने के लिये काफी मशक्कत करनी पड़ती है किन्तु अपने बच्चों को पोर्नोग्राफी से बचाना उनका कर्तव्य है। अधिकतर माता पिताओं को तो पता भी नही होता कि उनके बच्चे नेटफ्लिक्स, यू ट्यूब या ऐसी ही विडियो वाली साईट्स पर कितनी भयंकर चीजें देख सकते हैं।

मेट फ्रेड के अनुसार अपने बच्चों स्मार्ट उपकरण देने के बजाय परिवार एवं मित्रों के साथ शामिल होने के लिये प्रोत्साहित करें। उनको किताबें पढ़ने का आनंद लेने दें, कविता का मजा उठाने दें, दोस्तों के साथ खेलने दें या परिवार के सदस्यों के साथ बातचीत में व्यस्त रखें।

माता पिता की भूमिका
आप पार्न विरोधी जो कह रहे हैं उसकी अनदेखी नहीं कर सकते। ये आपका कर्तव्य है कि आप अपने बच्चों को ओन लाईन के खतरों से बचाने के लिये उन पर नजर रखें। बच्चे आसानी से पार्न साईट पहुँच जाते हैं एवं उसके व्यसनी हो जाते हैं। वे इससे उबर नहीं सकते हैं और ओनलाइन पार्न कई तरह से उनकी जिन्दगी बर्बाद कर देता है।

माता पिताओं के लिये उनके बच्चे क्या देख रहे हैं इस पर नजर रखना बहुत महत्वपूर्ण है। उनको यह तथ्य नजर अंदाज नहीं करना चाहिये कि स्मार्ट फोन व टेबलेट उनके बच्चों को आसानी से ओनलाईन पोर्नोग्राफी से जोड़ सकती है। अपने बच्चों को इससे बचाने के लिये माता पिता किडोवेयर से एप्स (किड्स प्लेस, किड्स प्लेस विडियो प्लेयर एवं सेफ ब्राउजर) डाउनलोड कर सकते हैं। किडोवेयर ने ये तीन दिलचस्प एप्स माता पिता की बच्चों पर नजर रखने में सहायता के लिये बनायी है।

इस एप की मुख्य विशेषतायें नीचे दी गयी हैंः

  • पूरा एप सेटः यह एप बच्चे की हर उम्र के विकास को सुरक्षा प्रदान करती है
  • सुरक्षित इनटरनेट कनेक्शनः यह एप बच्चे को तकनीक का सही उपयोग सिखाने में माता पिता की मदद करती है
  • भरोसेमन्द एवं सुरक्षितः इस एप को विकसित करने में ७ से अधिक वर्षों का प्रयास लगा है। यह करोड़ों माता पिताओं की इच्छा एवं जरूरत के अनुरूप है
  • आसान तकनीकः आसान टूल्स निगरानी रखने एवं आपसी सहमति से सीमा तय करने के लिये सर्वश्रेष्ठ हैं
  • सीधा नियन्त्रणः किडोवेयर का मानना है कि अलग से पेरेन्टल कन्ट्रोल प्रभावी होता है, अतः उन्होंने रिमोट मानीटरिग के लिय एप विकसित की है

अतः यदि आप अपने बच्चों को सुरक्षित रखना चाहते हैं तो बिना पुनर्विचार किये गूगल प्ले स्टोर या प्ले स्टोर से एप डाउनलोड करें

FREE LINK for Safe Browser Parental Control – Blocks Adult Sites

Your kids can only use those apps and won’t get a chance to intrigue in your personal life. 

सेफ ब्राउजर एवं किड्स प्लेस विडियो प्लेयर एप डाउनलोड करना न भूलें

Free Safe Browser Link

Free Safe Browser App Link – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.kiddoware.kidsplace

Comments are closed.