मोमो चुनौती एवं अन्य नुकसान दायक गेम्स ने इन्टरनेट के काले पक्ष को उजागर कर दिया है

हरीश पी द्वारा २२ अप्रैल २०१९ को पोस्ट किया गया

पिछले साल वाइल एवं खतरनाक ब्लू गेम जैसे एप्स आने के बाद आजकल आत्मघातक गेम मोमो के बारे में माता पिता चिन्तित हैं एवं विषेशज्ञ चेता रहे है। यह परेशान करने वाली चुनौती पर आधारित गेम बच्चों व किशोरों को व्हाट्सएप व अन्य सोशियल मिडिया के जरिये आकर्षित करता है। यह गेम उन्हें स्वयं व अन्यों को नुकसान पहुँचाने के लिये प्रोत्साहित करता है।इन्टरनेट बच्चों के छत से कूदने, सायकल दीवार से भिड़ाने व ऐसी ही अन्य खतरनाक गतिविधियों की कहानियों से भरी पड़ी है। यह चुनौती बच्चों के वीडियो जैसे पेप्पा पिग व फोरटनाईट में भी घुसपेठ कर चुकी है।

मोमो चेलेन्जः
ओनलाईन प्लेटफार्म जैसे यू ट्यूब, फेसबुक, व्हाट्सएप आदि में एक छद्म नियंत्रक एक बच्चे को हिन्सात्मक चित्र एवं हिदायत भेजता है।

मोमो चेलेन्जः
ओनलाईन प्लेटफार्म जैसे यू ट्यूब, फेसबुक, व्हाट्सएप आदि में एक छद्म नियंत्रक एक बच्चे को हिन्सात्मक चित्र एवं हिदायत भेजता है। पहली बार यह बच्चों के वीडियो के बीच दिखा और बच्चों को व्हाट्सएप पर मदर बर्ड पर संपर्क करने के लिये प्रेरित किया। इस चुनौती से जुड़े शरारती लोगों ने मोमो प्राणी या बर्ड के लिये जापानी शिल्पकार काइसुके आइसावा द्वारा बनाई एक संरचना का उपयोग किया। विकृत आकृति में एक चौड़ा मुस्कराता चेहरा, बाहर निकली आँखें एवं बिखरे बाल हैं। आकृति लगभग गंजी है, मुर्गी जैसा शरीर है तथा एवियन पैर हैं।

एक बार यदि कोई उनके संपर्क में आ जाता है तो छद्म नियंत्रक शिकार को नयी चुनौती पेश करता है। शिकार को या तो मदर बर्ड से मिलने का लालच दिया जाता है या फिर मेसेजिंग एप के जरिये श्रापग्रस्त होने की सूचना दी जाती है।बच्चों को बताया जाता है कि अगर उन्होंने किसी को मोमो को देखने या जानने के बारे में किसी को बताया तो उनके माता पिता को खतरा हो सकता है।

चुनौतियाँ शुरू में तो आसान होती है, किन्तु धीरे धीरे वे खतरनाक होती जाती हैं, नियंत्रक शिकार को आदेश नहीं मानने पर धमकाने लगता है। सबसे अधिक पहचानी धमकी परिवार के सदस्य को नींद में मार डालने की है।

कैसे जाने कि आपका बच्चा मोमो का शिकार बन गया है ?:

माता पिता सीधे तौर पर बच्चे को मोमो दिखाकर पूछ सकते हैं कि क्या वह उसे जानता है। बच्चा यदि बताने से झिझे या डरा हुआ लगे तो उसे शान्ति से समझायें कि यह सब छल है। सावधान माता पिता अपने बच्चे के स्वभाव या उसकी गतिविधियों में बदलाव जान सकते हैं। कुछ स्वभाविक बदलाव हैं:

  • बच्चा अस्वभाविक रूप से चुप है
  • वह आपको या परिवार के अन्य सदस्य को होने वाले खतरे से डरा हुआ है
  • अपने संदेश के लिये अत्यधिक उत्सुक है
  • उसे अँधैरे से अचानक डर लगने लगा है
  • उनके शरीर पर अनजानी चोंट के निशान हैं

आप क्या कर सकते हैं

  • सबसे आधारभूत काम जो आप कर सकते हैं, वो यह है कि आप बच्चे को समझा सकते हैं कि यदि उन्हें ओनलाईन कोई विचलित करने वाली सामग्री दिखे तो क्या करना चाहिये। उन्हें हिश्वास में लेकर समझायें कि वे ऐसी किसी मुसीबत में न फँसे। वे आपके पास मदद के लिये आयें तो उनको दोष देने के बजाय उन्हें समस्या से बचाने में मदद करें।
  • यदि आपको लगता है कि बच्चा किसी मुसीबत में फँस गया है तो किसी विशेषज्ञ से सहायता लें। पुष्टि होने पर पुलिस या संबंधित प्राधिकारी से शिकायत करें।

पेरेन्टल कन्ट्रोल एप्स जैसे किड्स सेफ ब्राउजर जो क्लाउड आधारित इनटरनेट सामग्री को दिखने से रोक देता है, की मदद लें। यह एप आपकी इच्छानुसार पोर्न, गेम्स, वीडियो, हिंसा वाली सामग्री को भी रोकता है।
आडल्ट साईट रोकने के लिये मुफ्त लिंक पेन्टल कन्ट्रोल सेफ ब्राउजर

आपके बच्चे केवल आपकी चाही गयी एप्स ही देख सकते हैं। इससे आपकी व्यक्तिगत गतिविधियों में अवरोध नहीं होगा। सभी वीडियो को सुरक्षित करने के लिये सेफ ब्राउजर एवं किड्स वीडियो को डाउनलोड करना न भूलें।

फ्री सेफ ब्राउजर एप लिंक – https://play.google.com/store/apps/details?id=com.kiddoware.kidsplace

Comments are closed.